Thursday, December 17, 2009

जिन लहरों को jin lehron ko

जिन लहरों को उठते देखा हमने इन मंझधारों में
मिलता नहीं निशाँ उनका मीलों तक किनारों में

रफ्ता रफ्ता चलते चलते रंग बदलती दुनिया में
खो जाते हैं सारे सपने जीवन की तकरारों में

जिनको कहते थे हम अपना वो भी अपने हो ना पाये
किसको दुश्मन समझे कोई किसको गिनें हम यारों में

हम ने सोचा शाम जो आए तुम से बातें कर लेंगे
तनहा तनहा डूब गई थी शाम कहीं अन्धिआरों में

जिन पत्तों ने छाया दी थी हमें कहर की गर्मी में
उन का साथ भी मिल ना पाया ढलती हुई बहारों में

कौन बचाता मेरे घर को इसको तो आख़िर जलना था
जिस घर को हो आग लगा दी घर के पहरेदारों ने

जो लड़ते रहे वो जीत गए जो छोड़ गए वो हारें हैं
अपना ज़िक्र कहीं नहीं था ना जीतों में ना हारों में

चलते चलते थक कर आख़िर जिस की बाँहों में सोया था
उस को भी पहचान ना पाया मैं दिन के उजिआरों में

इज्ज़त अस्मत की सब बातें पैसे वालों की होती हैं
मैंने अक्सर बिकते देखा मुफलिस को बाजारों में

jin lehron ko uthte dekha hum ne in manjhdhaaron mein
miltaa nahin nishaan unkaa meelon tak kinaaron mein

Rafta rafta chalte chalte rang badlati duniya mein
kho jaate hain saare sapne jeevan ki takraaron mein

jinko kehte the hum apna vo bhi apne ho naa paaye
kisko dushman samjhe koi kisko gine hum yaaron mein

Hum ne socha shaam jo aaye tum se baaten kar lenge
tanha tanha doob gayi thi sham kahin andhiaron mein

Jin paaton ne chhaya di thi hamen kahar ke garmi mein
un ka saath bhi mil na paaya dhalti hui bahaaron mein

kaun bachaata mere ghar ko is ko to aakhir jalna tha
jis ghar ko ho aag lagaa di ghar ke pehredaaron ne

Jo ladte rahe vo jeet gaye jo chhod gaye vo haaren hain
apna zikr kahin nahin tha na jeeton mein naa haaron mein

Chalte chalte thak kar aakhir jis ke baahon mein soya tha
us ko bhi pehchaan na paaya mein din ke ujiaaron mein

Izzat asmat ki sab baaten paise valon ke hoti hain
maine aksar bikte dekha muflis ko bazaaron mein

No comments: