Thursday, December 17, 2009

दुनिया में Duniya mein

दुनिया में जीने का मतलब ही अदावत है
जिस दौर में रहते हो वो दौर क़यामत है

कब किस को कहाँ फुर्सत जो तेरी कथा समझे
सब सोचने लगते हैं इस की तो ये आदत है

लाली जो गुस्से की जो आँख में उतरी है
ख़ुद तुम को जला देगी बस यही हकीकत है

क्यों ख़ुद को जलाते हो क्या होगा किसे मालूम
वो कौन सी मंजिल है जो तेरी विरासत है

हिम्मत है तो बढ़ आगे क्यों मरने से डरते हो
दुनिया तो सराए है आगे भी तो ज़न्नत है



Duniya mein jeene ka matlab hi adaavat hai
jis daur mein rahte ho voh daur kayamat hai

Kab kisko kahan fursat jo teri katha samjhe
sab sochne lagte hain is ki to ye aadat hai

Laali ye jo gusse ki aankhon mein utri hai
khud tum ko jala degi bas yahi hakikat hai

Kyun khud ko jalate ho kya hoga kise maloom
vo kaun si manzil hai jo teri virasat hai

Himmat hai to badh aage kyun marne se darte ho
duniya to saray hai aage bhi to jannat hai

No comments: