Thursday, December 17, 2009

शाम जदों ढलदी है Sham jadon dhaldi hai (Punjabi)

शाम जदों ढलदी है

आसमां दी हिक उत्ते

इक दो तारे टिमटिमादे हन

सीने विच यादां दी कुलबुल जेही हुंदी है

वलवले उसारदे ने इक परछावां

यादां दे रंगा नाल सजान्दा हां उहनु

भुलिया भुलिया जेहा

खोया खोया जेहा

सजा के जां तकना हां इक तकनी

ओह तेरी तसवीर ही हुंदी है मेरी सजनी

मैं तैनू प्यार करदा हां ग़लत है

कदे करदा सी

मैं चाहन्दा हाँ तैनू भूल जावां

पर दिल दे वल्वलियाँ दा की करां

जो मुड़ मुड़ सजांदे ने तसवीर तेरी


Sham jadon dhaldi hai

aasman di hik utte

ik do tare timtimande ne

seene vich yadan di kulbl jehi hundi hai

valvale usaarde ne ik parchhavan

paadan de ranga naal sajaunda han uhnu

bhuliya bhuliya jeha

khoia khoia jeha

saja ke jan takna han ik takni

oh teri tasveer hi hundi hai meri sajni

main tainu pyar karda han

galat hai

kade karda si

main chahunda han tainu bhul jawaan

par dil de valvalian da ki karan

jo mud mud sajaunde ne tasveer teri


No comments: