Thursday, December 17, 2009

शाम ढले Shaam dhale

शाम ढले जब इस वादी में डूबे आज का दिन
देखना तब तुम अपनी नज़र से ओ भोली कमसिन

तेरे होठों की रंगत सा वहां पर रंग बिखरे गा
धुंधलका शाम का होगा तुम्हारा रूप निखरे गा

अहसास तुम्हें तब होगा अपनी इस जवानी का
मतलब तब तुम समझो गी मेरी इस कहानी का


Sham dhale jab is vadi mein doobe aaj ka din
dekhna tab tum apni najar se o bholi kamsin

Tere hothon ki rangat sa vahan par rang bikhre ga
dhundhlaka sham ka hoga tumhara roop nikhrega

Ahsaas tab tumhen hoga apni is jawani ka
matlab tab tum samjho gi meri is kahani ka

No comments: