Thursday, December 17, 2009

टुकडियां (2) Tukdian (2)



मेरी यादों के साए में
तेरी तसवीर है अब तक
कहाँ है तू कहाँ हूँ मैं
Meri yaadon ke saaye mein
teri tasveer hai ab tak
kahan hai tu
kahan hun main


ये लंबे फासले ये लम्बी दास्तां
ये उजड़ी ज़िन्दगी ये उजडा गुलिस्तां
Ye lambe phasle ye lambi dastan
ye ujadi jindagi ye ujda gulistan


यूँ तो हर साल महफिल में रंग बरसे गा
यूँ तो हर साल दिवाली के चिराग जलाए जायें गे
Yun to har saal mehfil mein rang barse ga
yun to har saal diwali ke chirag jalaye jayen ge


ओये इक वारी फेरा पा कुडिये
असी खोलिए दिल दे राह कुडिये
Oye ik vaari pheraa paa kudiye
asin kholiye dil de raah kudiye (Punjabi)


आरजू ए दिल ना कोई रंग लाये
कि हम जी रहे हैं पराये पराये
Aarzoo e dil na koi rang laaye
ki hum ji rahen hain paraye paraye


मेरे पास आओ बेकरार हूँ मैं
इक झलक दिखलायो बेकरार हूँ मैं
तुम्हें देखने की जुर्रत जो की है
इश्क ए जुर्म का गुनहगार हूँ मैं
Mere paas aao bekarar hun main
ik jhalak dikhlao bekarar hun main
tumhen dekhne ki jurrat jo ki hai
ishq-e jurm ka gunahgar hun main


वादा ए खिलाफत की तुम ने
हम फिर भी वफ़ा करते ही रहे
Vada e khilafat ki tum ne
hum phir bhi vafa karte hi rahe


No comments: