Thursday, December 17, 2009

बह रहा था दरया Bah raha tha darya

बह रहा था दरया अपनी ही मस्तियों में
हर तरफ़ थी खामोशी थम गई हों ज्यों हवाएं

इस आलमे फिजा में खामोश थी मुहब्बत
दो जिस्म यूँ खड़े थे जैसे खामोश साए

इक लज्जते जवानी लहरा के जो उठी थी
आलम था दो जहाँ का तेरी मरमरी सी बाहें

कुछ इस तरह से उस ने दामन को था बिखेरा
बिखरे थे आस्मां पर ज्यों बादलों के साए

फिर रफ्ता रफ्ता उस ने आगे कदम बढाया
कोई ख्वाब जैसे तामीर बन के आए

मैंने जो झुक के जुल्फों को चाहा था चूम लेना
माथे पे उस के मोती पानी के ढलक आए

लफ्जों को ढूंढ़ते थे कैसी हो तर्जे बयानी
कुछ कहना चाहा हम ने कुछ कह ना पाये हाय

कुछ कहना चाहा तुम ने आवाज़ खो गई थी
जो कह ना पाये लब भी वो कह गई निगाहें


Bah raha tha darya apni hi mastion mein
har taraf thi khamoshi tham gayi hon jyon hawaen

Is aalme phiza mein khamosh thi muhabbat
do jism yun khade the jaise khamosh saye

Ik lazzte jawani lahra ke jo uthi thi
aalam tha do jahan ka teri marmari si bahen

Kuchh is tarah se us ne daman ko tha bikhera
bikhre the aasman par jyaon baadlon ke saaye

Phir rafta rafta us ne aage kadam badhaya
koi khawab jaise koi taamir ban ke aaye

Maine jo juk ke julphon ko chaha tha choom lena
mathe pe uske moti pani ke dhalak aaye

Lafjon ko dhundte the kaisi ho tarje bayani
kuchh kahna chaha ham ne kuchh kah na paye haye

Kuchh kahna chaha tumne awaaz kho gayi thi
jo kah na paye lab bhi vo kah gayi nigahen

No comments: