Thursday, December 17, 2009

जदों याद मां दी आ जाए (Punjabi)

जदों याद मां दी आ जाए
दिल हन्झुआं च भर जाए

किन्ने सी लाडो लाड्डी मां
किन्ना सी मैनूं प्यारदी मां
हन्झुआं नूं भांवे ख़ुद पिए
खुशियाँ दी छां मैनूं करे
बुल्लां ते मेरे इक खुशी
मां मेरी दी सी ज़िन्दगी
प्यार दा साया सी ओ
ममता भरी माया सी ओ

जद याद मां दी आ जाए
बचपन वी साहवें आ जाए
मेरा ओ हस्सना रुस्सना
रोटी छड़ घर तों भज्जना
फेर मां दा हाक्कां मारना
गालां दा मींह सी वारना
फड छड़ी पिच्छे नस्सना
मेरा होर अगांह नूं वधना
वेह्डा निमोली लंघ के
उड़ जांदा सी बूहा टप के
निमोली नूं छदियाँ मार के
गुस्से दी रों उतार के
फिर मां दा पिच्छे परतना
मेरा बोहड़ ते चढ़ जावना
गुस्सा सी मां दा दाधदा
डर मैनूं सी बड़ा लग्गदा

फिर कोई बहाना सोचना
किद्दां जा के मां नू लोच्चना
पुराना गुर दोहरावना
घर पहुँच के लंग्दाव्ना
की होइअया भूल जांदी सी मां
हल्दी दी पट्टी लियान्दी सी मां
किन्ना रोई जांदी सी मां
गलावाक्क्दी पांदी सी मां
किन्नी भली सी मेरी मां
किन्नी सीधी सी मेरी मां

जदों याद मां दी आ जाए
दिल हंजुआं च भर जाए

No comments: