Thursday, December 17, 2009

क्या सौदा कर आया हूँ Kya sauda kar aaya hun

सुख ढूँढने निकले थे
दुःख बांटते ही मिले सारे
अपने सुख औरों को दे कर
उनके दुःख ले आया हूँ
क्या सौदा कर आया हूँ

वो गीत जिन में तेरी कहानी थी
तेरी आवाज़ ढूँढ़ते रहे
मैंने दर्द ढाला था जिन गीतों में
आज उन गीतों को बेच आया हूँ
जीवन भर क़ी मेहनत दे कर
कुछ सिक्के ले आया हूँ
क्या सौदा कर आया हूँ

ख़ुद को जो बेचने निकला
कोई खरीदार मिल ना सका
किस के पास वक्त है
हम जैसों क़ी बातें सुनने का
शहर क़ी भीड़ भरी सड़कों पर
मैं खुद को ही ढूंढता रहा
और जहां कोई नहीं था वहां मैं
अपना हमसफ़र ढूँढता रहा
ना मिला कोई तो
ख़ुद को ही ले आया हूँ
क्या सौदा कर आया हूँ

Sukh dhundne nikle the
dukh bantte hi mile saare
apne sukh auron ko de kar
unke dukh le aaya hoon
kya sauda kar aaya hoon

vo geet jin mein teri kahani thi
teri awaaz dhoondte rahe
maine dard dhaala tha jin geeton mein
aaj un geeton ko bech aaya hoon
jeevan bhar ki mehant de kar
kuchh sikke le aaya hoon
kya sauda kar aaya hoon

khud ko jo bechne nikla
koi kharidaar mil na saka
kis ke paas vakt hai
hum jaison ki baaten sunne ka
shahar ki bheed bhari sadkon par
main khud ko hi dhudhta raha
aur jahan koi nahin tha vahan main
apna humsafar dhoondhtaa raha
na mila koi to
khud ko hi le aaya hoon
kya sauda kar aaya hoon

No comments: