Thursday, December 17, 2009

खट्टे हैं अंगूर Khatte hain angoor

खट्टे हैं अंगूर सुना ये सब ने भाई
लगती थी मीठी हमें पर अंगूरी बाई

अंगूरी के बाप ने किया एक ही सवाल
कितना पैसा बैंक में कितना घर में माल

मैंने कहा ससुरजी मेहनत की हैं खाते
ऊपर नीचे कुछ नहीं सिर्फ़ तनख्वाह पाते

बोले बेटा कुछ करो कुछ तो कर के लाओ
जब हो पैसा बैंक में तब शकल दिखलाओ

मेहनत की फिर रात दिन ख़ुद को बहुत खपाया
इक इक पैसा जोड़ कर कुछ बैंक बैलेंस बनाया

फिर हम ने जा कर माँगा अंगूरी का हाथ
वो तो कब की चली गई किसी और के साथ

पीठ टेढ़ी हो गयी बन गए हम लंगूर
तब फिर आया समझ में खट्टे हैं अंगूर


Khatte hain angoor suna ye sab ne bhai
Lagti thi meethi hamen par Angoori bai

Angoori ke baap ne kiya ek hi sawal
Kitna paisa bank mein kitna ghar mein maal

Maine kaha sasurji mehnat ki hain khate
Upar neeche kuchh nahin sirf tankhwah pate

Bole beta kuchh karo kuchh to kar ke lao
Jab ho paisa bank mein tab shakal dikhlao

Mehnat ki phir raat din khud ko bahut khapaya
Ik ik paisa jod kar kuchh bank balance banaya

Phir hamne ja kar maanga Angoori ka hath
Vo to kab ki chali gai kisi aur ke sath

Peeth tedi ho gai ban gaye hum langoor
Tab phir aaya samajh mein khatte hain angoor

No comments: