Thursday, December 17, 2009

टुकडियां (4) Tukdian (4)


मैं ये किस शहर में आ गया हूँ
उजड़ी हुई बस्ती है टूटे हुए लोग
हर साँस में जीवन की
बेचैन सी धड़कन है
Main ye kis shehar mein aa gaya hoon
ujdi hui basti hai tute hue log
har saans mein jeevan ki
bechain si dhadkan hai


उमर जो ढलती रही
कोई सपना ना रहा
तुम भी मेरे ना हुए
मैं भी अपना ना रहा
Umar jo dhalti rahi
koi sapna na raha
tum bhi mere na hue
main bhi apna na raha


तेरी दुनिया बनी मेरी दुनिया
तेरे सपने बने संसार मेरा
तेरे होंठ बने मेरी धड़कन
तेरी आँख बनी है प्यार मेरा
Teri duniya bani meri duniya
tere sapne bane sansar mera
tere honth bane meri dhadkan
teri aankh bani hai pyar mera


वो राहें चले हम तुम जिन पर
वो मीलें पीछे छूट गईं
वो नाते रिश्ते घर गलियां
वो संग सहेली छूट गईं
Vo rahen chale hum tum jin par
vo meelon peechhe chhoot gayin
vo naate rishte ghar galian
sab sang saheli chhoot gayin


रात का खामोश आलम कसमसाता रह गया
पास आ कर भी तुम्हारे पास आया ना गया
इक तरफ़ था तेरा घर इक तरफ़ था मैकदा
इधर भी जाया ना गया उधर भी जाया ना गया
Raat ka khamosh aalam kasmasata reh gaya
paas aa kar bhi tumhaare paas aya na gaya
ik taraf tha tera ghar ik taraf tha maikda
idhar bhi jaaya na gaya udhar bhi jaya na gaya


ज़िन्दगी दे साज़ उत्ते हौकयां ने गीत गाया
सुन के मेरे वैन तिख्खे हंजुयां नूं रोन आया
Jindagi de saaj utte haukian ne geet gaaya
sun ke mere vain tikhe hanjuan nu ron aaya (Punjabi)


भुलियाँ नी हाले वी ओह यादां तेरीयां
की फेरा पा अडिया
की तैनू मेरे गीत बुलांदे ने
की मुड़ मुड़ तरले पान्दे ने
की पा वतना वल मोड़
फेरा पा अडिया (पंजाबी)
Bhulian ni hale vi uh raahan terian
ki phera paa adia
ki tainu mere geet bulande ne
ki mud mud tarle paunde ne
ki pa vatnan nu mod
phera pa adiya (Punjabi)


गमे ज़िन्दगी में जो भी आया मेरा साथ दे ना पाया
मुझ से रहा पराया मेरा ही अपना साया
Game zindgi mein jo bhi aya mera saath de na paya
mujh se raha paraya mera hi apna saaya


कभी मिल के हम थे बिछडे चलो याद कर के रोयें
किस दौर में से गुज़रे चलो याद कर के रोयें
Kabhi mil ke hum the bichhde chalo yaad kar ke royen
kis daur mein se guzre chalo yaad kar ke rooyen


यह सोच के उठ्ठे थे महफिल से
की फिर नहीं आयें गे हम
तेरा दरवाजा खुला देखा
तो दिल से परेशां हो गए
Ye soch ke uthe the mehfil se
ki phir nahin aayen ge hum
tera darwaja khula dekha
to dil se preshaan ho gaye


कौन कहता है तुम परायी हो गयी हो
तेरी तस्वीर हमेशा मेरे दिल में रहती है
तुम अगर चुप हो शिकवा नहीं है मुझ को
तेरी तस्वीर तो मुझसे बहुत कुछ कहती है
Kaun kahta hai tum parai ho gayi ho
teri tasveer hamesha mere dil mein rahti hai
tum agar chup ho shikwa nahin hai mujh ko
teri tasveer to mujhse bahut kuchh kahti hai


रात ढलती है तो ढलती ही चली जाती है
टीस उठती है तो बढती ही चली जाती है
जब कभी मेरे ज़हन में तेरा ख़याल आता है
किसी गुलशन के एक सूखे हुए पेड़ क़ी याद आती है
Raat dhalti hai to dhalti hi chali jaati hai
tees uthti hai to badhti hi chali jaati hai
jab kabhi mere zahn mein tera khyal aata hai
kisi gulshan ke ek sukhe hue ped ki yad aati hai

मैं परदेसी हां
परदेस मेरे ने देस
क़ि मैं परदेसी हां
ना राह मेरी तूं रोक
चलदे राहियाँ नूं टोक
क़ि मैनूं जावन दे
एह गीत मेरे अनजोड़
क़ि शामां वेले तूं
नेहरां कंडे तूं
दे दयीं लहरा विच रोड
क़ि मेनू जावन दे (पंजाबी)
Main pardesi haan
pardes mere ne des
ki main pardesi haan
na raah meri tun rok
chalde raahian nu na tok
eh geet mere unjod
ki shamaan vele tun
nehran kande tun
dain lehran vich rod
ki mainu jaawan de (Punjabi)







No comments: