Thursday, December 17, 2009

तेरा मिलना Tera milna

तेरा मिलना अज़ब इतेफाक था
तेरे जाने को मैं क्या कहूं
इक हवा का झोंका था
जो कांपते पत्तों के पास से
सरसराता गुजर गया

इस पहाड़ी की चोटी से
दूर फैले हुए धुंधलके में
कुछ भी नज़र नहीं आता
एक खामोश सा साया
देवदारों के घने झुरमुट में
कांपता हुआ सा चल रहा है
पता नहीं कौन है
बरसों पहले ऐसे ही हम बिछुडे थे
तुम्हारा साया भी
ऐसे ही खो गया था

पता नहीं कितने साल गुजर गए
जाने क्यों मगर अब भी
मैं तेरा इंतज़ार करता हूँ
शायद किसी मोड़ पे तुम से
दोबारा मुलाक़ात हो जाए
और हीर का कहना कि
गए हुए कभी वापस नहीं आते
ग़लत साबित हो जाए

Tera milna azab itefaque tha
tere jaane ko main kya kahoon
ik hawa ka jhonka tha
jo kanpte patton ke paas se
sarsarata guzr gaya

Is pahadi ki choti se
door faile dhundhlke mein
kuchh bhi nazar nahin aata
ek khamosh sa saya
kanpta hua sa chal raha hai
pata nahin kaun hai
barson pehle aise hi hum bichhude the
tumhara saya bhi
aise hi kho gaya tha

Pata nahin kitne saal guzr gaye
jaane kyon ab bhi
main tera intezaar karta hoon
shayad kisi mod pe
dobara mulaquat ho jaye
aur heer ka kahna ki
gaye hue kabhi vapas nahin aate
galat sabit ho jaye.




No comments: