Thursday, December 17, 2009

कुछ इस तरह Kuchh is tarah

कुछ इस तरह से हम ने काटी है ज़िन्दगी
जैसे किसी का इंतज़ार ही अपना नसीब था

जाने किन रास्तों पे चलते रहे उमर भर
हालाँकि मंजिल का रास्ता बिल्कुल करीब था

तेरे करीब आ के भी तुम्हें ढूंढ़ते रहे
मुक्कद्दर का ये मज़ाक भी कितना अजीब था

तेरे ख़त तेरी यादें ही अब मेरा सामान हैं
वरना इस से पहले मैं कितना गरीब था



Kuchh is tarah se hamne kati hai jindagi
jaise kisi ka intezar hi apna naseeb tha

Jane kin raaston pe chalte rahe umar bhar
halanki manjil ka raasta bilkul kareeb tha

Tere kareeb aa ke bhi tumhen dhundte rahe
mukkaddar ka ye mazak bhi kitna ajeeb tha

Tere khat teri yaden hi ab mera samaan hain
varna is se pehle main kitna gareeb tha

No comments: