Thursday, December 17, 2009

टुकडियां (3) Tukdian (3)



गमे ज़िन्दगी मैं जब हम कभी यूँ ही मुस्कुराए
दिल दर्द में था डूबा गम अश्क बन के आए
Game zindagi mein jab hum kabhi yun hi muskuraye
dil dard mein tha dooba gam ashq ban ke aaye


ये कैसी दास्ताँ थी जो बनी मेरा फ़साना
जिसे किस ने चाहा सुनना जिसे किस ने चाहा गाना
Ye kaisi dastan thi jo bani mera fasaana
jise kisne chaha sunna jise kis ne chaha gaana


जली कुमकुमों की लम्बी कतारें
रौशन मीनारें ये रौशन ज़मीं
रौशन है दुनिया की हर गली
मगर दिल की दुनिया अंधेरी रही
Jali kumkumon ki lambi kataren
raushan minaren ye raushan jamin
raushan hai duniya ki har ik gali
magar dil ki duniya andheri rahi


साज़ बजता रहा रंग जमता रहा
दर्द दिल का मगर कम हो ना सका
Saaz bajta raha rang jamta raha
dard dil ka magar kam ho na saka


आज गंगा किनारे ओ री सांवरी
तूने लूटा है दिल का गुमान रे
Aaj ganga kinare o ri saanwari
tune loota hai dil ka gumaan re


इस मोड़ पे आना तुम और हम भी आयें गे
वादा ये मोहब्बत का हम रोज़ निभाएं गे
Is mod pe aana tum hum aur hum bhi aayen ge
vada ye mohabbat ka hum roj nibhayen ge


उजड़ा चमन गरीब का तू देखता रहा
बिखरे चमन के फूल सब तूने ये क्या किया
Ujda chaman garib ka tu dekhta raha
bikhre chaman ke phool sab tune yeh kya kiya


बिखरे सब सामान खुशी के रह गई चाह अधूरी
कोई किसी से मिल नहीं पाए ये कैसी मजबूरी
Bikhre sab samaan khushi ke reh gai chah adhoori
koi kisi se mil nahin paye ye kaisi mazboori


तुम चांद से ज्यादा सुंदर हो और फूल से ज्यादा नाज़ुक सी
तेर बोल में ऐसी ठंडक है क़ि मिल जाती है राहत सी
Tum chaand se jyaada sundar ho aur phool se jyada nazuk si
tere bol mein aisi thandak hai ki mil jaati hai rahat si


मुझे तुम से मुहब्बत है ये कितनी बार कहना है
इक बार नहीं सौ बार कहा अब आख़िर और क्या कहना है
Mujhe tum se muhabbat hai ye kitni baar kehna hai
ik baar nahin sau baar kaha ab aakhir aur kya kehna hai


No comments: