Thursday, December 17, 2009

ये नन्ही नन्ही बूँदें Ye nanhi nanhi boonden

ये नन्ही नन्ही बूँदें
जो आ रही हैं
गगन से धरा की ओर
नोच कर ला रही हैं
गगन के ह्रदय से
बादल रूपी
निराशा और वैमनस्य के भाव
स्वयं बलिदान हो कर
ये नन्ही नन्ही बूँदें
बना रही हैं गगन को
स्वच्छ और निर्मल

No comments: