Thursday, December 17, 2009

बात यह है Baat yeh hai

उसने अपनी कह दी हमने अपनी सुनाई ही नहीं
बात इतनी है की हमें बात करनी आई ही नहीं

बड़ी मुद्दत से इस राज़ को दिल में छुपा रक्खा था
वरना आज तक हम ने कोई बात छुपायी ही नहीं

जाने ऐसा क्या कह दिया था महफ़िल में हमने
वो मिला तो मगर उस ने आँख मिलायी ही नहीं

जाने क्यों लोग डर जाते हैं मेरी बेबाकी से
शायद बात करने की फितरत हमें आई ही नहीं

अभी से इतना क्यों चौंकते हो दोस्त
अभी तो मैंने पूरी बात सुनाई ही नहीं

मैं उस के हर झूठ को सच समझ के पी गया
मगर उस ने जो बात बतानी थी बतायी ही नहीं

हम तो हर बुत को सनमखाना समझ लेते हैं
पर शायद मेरी बात उसकी समझ आई ही नहीं

कह देते हैं बेझिझक जो भी दिल में आता है
बात यह है कि हमें बात करनी आई ही नहीं

Us ne apni kah di hum ne apni sunai hi nahin
baat itni hai ki hamen baat karni aai hi nahin

badi muddat se is raaz ko dil mein chhupa rakha tha
varna aaj tak hum ne koi baat chhupai hi nahin

jaane aisa kya keh diya tha mehfil mein humne
vo mila to magar usne aankh milai hi nahin

jaane kyon log dar jaate hain meri bebaaki se
shayad hamen baat karne ki fitrat aai hi nahin

abhi se itna kyon chaunkate ho dost
abhi to poori baat maine sunai hi nahin

main us ke har jhooth ko sach samajh ke pi gaya
magar us ne jo baat batani thi batai hi nahin

hum to har but ko sanamkhana samajh lete hain
par meri baat shayad uski samajh mein aayi hi nahin

kah dete hain be jhijhak jo bhi dil mein aata hai
baat yeh hai ki baat karni hamen aayi hi nahin

No comments: