Thursday, December 17, 2009

मैं हूँ अकेला हूँ

मैं हूँ अकेला हूँ
गम का झमेला हूँ
रात बड़ी संगदिल है
देर तक साथ दे ना सकी
आई थी चली गई
मैं कल जहां से चला था
आज भी वहीं हूँ
लगता है मीलों चल आया हूँ
किसी के लिए रात गाती है
हंसती है मुकुराती है
मैं खडा हूँ वहीं
जहां खडा था कभी
रात आती है गुज़र जाती है
मैं हूँ अकेला हूँ

No comments: