Thursday, December 17, 2009

जवान रात है Jawan raat hai

जवान रात है सरकता हुया आँचल
कोई परेशान ना हो तो फिर क्या हो
बेनकाब हुया जाए जो हुस्न ख़ुद ख़ुद
कोई बेईमान ना हो तो फिर क्या हो

ईमान की बात फिर कभी कर लेना
आज मुझे बे -ईमान ही हो जाने दो
तेरी जुल्फों का साया फिर मिले ना मिले
आज क़ी रात तो इस साए में खो जाने दो

कल किस ने देखा है तुम आज की बात करो
अभी तो रात का एक पहर बाकी है
जब इतना पी ही चुके दो घूँट और सही
अभी तो रात बाकी है अभी तो ज़हर बाकी है

ता ज़िन्दगी तेरा इंतज़ार किया है मैंने
ज़रा बैठो कुछ प्यार की बात तो कर लें
सुबह होते ही हमें फिर अलग हो जानाहै
आज तो इस रात को अपनी रात कर लें


Jawan raat hai sarkata hua anchal
koi preshan na ho to phir kya ho
be- nakaab hua jaye jo husn khud-b-khud
koi be-imaan na ho to phir kya ho

Imaan ki baat phir kabhi kar lena
aaj mujhe be-imaan ho hi jane do
teri zulfon ka saaya phir mile na mile
aaj ki raat to is saaye mein kho jaane do

kal kis ne dekha hai tum aaj ki baat karo
abhi to raat ka ek pahar baaki hai
jab itna pi hi chuke do ghunt aur sahi
abhi to raat baaki hai abhi to zahar baaki hai

Taa zindagi tera intezaar kiya hai meine
zara baitho kuchh pyaar ki baat to kar len
subah hote hi hamen phir alag ho jaana hai
aaj to is raat ko apni raat kar len


No comments: