Friday, February 05, 2010

अब भी बाकी हैं Ab bhi baaki hain

अब भी बाकी हैं तेरे नक्शे कदम तेरे गाँव की गलियों में
शहरों की इस भीड़ में जाने कितने निशां खो जाते हैं

Ab bhi baaki hain tere naksh-e-kadam tere gaon ki galiyon mein
shahron ki bheed main jaane kitne nishan kho jaate hain

(Footprints left by you are still retained by the bylanes of your village
in the crowds of big cities who knows how many footprints are lost)

कुछ राह कटी

कुछ राह कटी कुछ साथ हुआ
कुछ दूर चले हम तुम मिल कर
जब बिछुड़ गए चल पड़े सनम
तुम अपनी डगर मैं अपनी डगर

ये राह मेरी वो राह तेरी
कुछ पास मिलीं कुछ दूर हटीं
कुछ कह के चले कुछ सुन के चले
कुछ दर्द बँटा कुछ राह कटी

चिर विलग हुआ पर दुःख कैसा
जीवन में कहाँ सब साथ रहे
चिर मिलन कहाँ कुछ शुक्र करो
कुछ देर तो हम तुम साथ रहे


Kuchh raah kati kuchh saath hua
kuchh door chale hum tum mil kar
jab bichhud gaye chal pade sanam
tum apni dagar main apni dagar

ye raah meri ye raah teri
kuchh paas milin kuchh door hatin
kuchh kah ke chale kuchh sun ke chale
kuchh dard banta kuchh raah kati

chir vilag hua par dukh kaisa
jeevan mein kahan sab saath rahe
chir milan kahan kuchh shukr karo
kuchh der to hum tum saath rahe

(We covered some path and
be together for some time
some distance we shared on the way
when separated we started walking
you went your way I went my way

this was my path, that was your path
sometime they went far, near they came sometimes
we told many things, we shared many things
covered some distance and shared some pain sometimes

why to feel sorry for this separation
who can walk with you till the end time
forget about full life, be thankful to God
at least we were together for some time)



ना फूलों की हसरत है Na phoolon ki hasrat hai

ना फूलों की हसरत है ना काँटों से गिला है
मय सूद लौटाया है जो दुनिया से मिला है
हम कैसे समझ पाते दुश्मन के इरादों को
वो जब भी मिला हम से अपनों सा मिला है


Na phoolon ki hasrat hai, na kanton se gila hai
mai sood lautaya hai, jo duniya se mila hai
ham kaise samajh pate, dushman ke iradon ko
vo jab bhi mila ham se, apnon sa mila hai


(I have no desire for flowers nor any complaint against thorns
I have returned with interest whatever I received from this world
how could I understand the intentions of my enemy
'cos whenever he met me, he met me like my own)

Wednesday, February 03, 2010

मत पूछो Mat poochho

मत पूछो क्या मतलब होता है क़यामत का
मतलब की इस दुनिया में हर रोज़ कयामत होती है
यहाँ सीधे सादे लोगों की फरयाद ना कोई सुनता है
कुर्सी पर बैठे चोरों की हर रोज़ इबादत होती है


Mat poochho kya matlab hota hai kayamat ka
matlab ki is duniya mein har roj kayamat hoti hai
yahan seedhe saade logon ki faryaad na koi sunta hai
kursi par baithe choron ki har roz ibaadat hoti hai

(Don't ask me what is the meaning of Kayamat(Doom's day)
in this selfish world every day is a doom's day
no one is there to hear the woes of simple people
thieves sitting on the chair are worshiped every day)

Monday, February 01, 2010

टुकडियां (5) Tukdian (5)

बंदगी Bandagi

गौर कर दुनिया की बंदे
गौर कर इंसान की
है ग़मज़दा की गौर करना
बंदगी भगवान की

Gaur kar duniya ki bande
gaur kar insaan ki
hai gamzada ki gaur karna
bandagi bhagwan ki

(Think of this world O' man
take care of human beings
to take care of any depressed

is the worship of supreme being)


गैर Gair

गौर तलब है इतनी बात,
हर गैर गैर नहीं होता
जब अपने रंग बदलते हैं,
कुछ गैर ही साथ निभाते हैं

Gaur talab hai itni baat,
har gair gair nahin hota
jab apne rang badlate hain,
kuchh gair hi saath nibhate hain

(Remember one thing my dear
every "other" is not "other"
some "others" only stand by you
when your "own" show their colour)


अपनी राह Apni Raah

हर किसी के साथ चलना,
है कहाँ मुमकिन यहां
भीड़ भरी इस दुनिया में
खुद राह बनानी पड़ती है

Har kisi ke saath chalna
hai kahan mumkin yahan
bheed bhari is duniya mein
khud raah banani padti hai

(where it is possible to
keep pace with everyone
in this world full of crowds
you have to make your own way)


तेरे रस्ते Tere raste

तेरी तो बस बात और थी
दुनिया का पर चलन और था
जिस रस्ते को तुम ने चुना था
उस रस्ते पर कौन चला था

तेरी बातें न्यारी बातें
कोई कभी भी समझ न पाया
तेरी मंजिल कहीं और थी
कोई तुम्हारे साथ न आया

Teri to bas baat aur thi
duniya ka par chalan aur tha
jis raste ko tum ne chuna tha
us raste par kaun chala tha

teri baaten nayari baaten
koi kabhi bhi samajh na paya
teri manzil kahin aur thi
koi tumhare saath na aaya

(your ways were different
but different were the world's ways
the path you had selected to walk
nobody had walked that way

your thinking was entirely different
no body could follow the same

your aims were somewhere else
along with you no one came)

Sunday, January 31, 2010

गुल ने गुलशन से कहा Gul ne gulshan se kaha

गुल ने गुलशन से कहा अगले बरस बहार में
जो ना मिले तो सोचना इंतना ही अपना साथ था
मेरा ऐसे खिलखिलाना माली से देखा ना गया
फूल बन कब तक मैं बचता इस में ना तेरा हाथ था

मुमकिन है किसी आशिक के हाथों में हो मेरा नसीब
शायद किसी माशूक के बालों में सजाया जाऊं गा
या किसी दलदल में गिर कर हो भी सकता हूँ फ़ना
या किसी चिता के संग मैं भी जलाया जाऊं गा

चंद दिन डाली पे झूमे इतनी गनीमत बहुत है
फूल का खिलना ही उस की ज़िन्दगी का अर्थ है
किस के दर पर मैं चढूँ गा मन्दिर मस्जिद या मज़ार
डाल पे जो सूख जाए उस का जीवन व्यर्थ है



Gul ne gulshan se kaha agle baras bahaar mein
jo na mile to sochnaa itnaa hi apna saath tha
mera aise khilkhilaana mali se dekhaa na gaya
phool ban kab tak main bachta is mein na tera haath tha

Mumkin hai kisi aashiq ke haathon mein ho mera naseeb
shayad kisi mashook ke baalon mein sajaya jaaon ga
ya kisi daldal mein gir kar ho bhi sakta hun fana
ya kisi chita ke sang mein bhi jalaya jaaon ga

Chand din dali pe jhoome itni ganimat bahut hai
phool ka khilna hi us ki zindagi ka arth hai
kis ke dar par main chadun ga mandir maszid ya mazaar
daal pe jo sookh jaye uska jeevan vyarth hai


(Flower said to gardener, next year in spring
if we don't meet, think that much was our company
my blooming could not be tolerated by gardener
once bloomed how long I could save myself
for which you were not responsible

Possible it may be, I end in the hands of some lover
or may be decorated in hair of some maiden beautiful
or I may fall in some dirty place and end there
or I may be burnt along with some one's funeral

I bloomed on a twig for some days, that is sufficient
blooming for flowers is the real meaning of their lives
who knows where will I land, mandir maszid or mazaar
their life has no meaning ,on the branch who dries)

Saturday, January 23, 2010

जिन गलियों को Jin galion ko

जिन गलियों को छोड़ दिया अब उन क़ी याद से क्या फायदा
जिस राह पे अब चल ही पड़े , उस क़ी ही बातें करते हैं
जो छूट गया सो छूट गया , सोचो क़ि अपना था ही नहीं
जब यही मुक्कद्दर है अपना , फिर यहीं की बातें करते हैं

Jin galion ko chhod diya ab un ki yad se kya phayda
Jis rah pe ab chal hi pade us ki hi baten karte hain
Jo chhoot gaya so chhoot gaya socho ki apna tha hi nahin
Jab yahi mukkadar apna hai phir yahin ki baten karte hain

(whatever is left behind it's no use thinking about that
once we have taken a new road let us talk about that
whatever has been left is past, think it was not yours
when this only is our fate, let us talk about this only)

Thursday, December 17, 2009

गीत गाये यूँ हजारों Geet gaaye yun hazaaron

गीत गाये यूँ हजारों वक्त की मजबूरियों के
नगमा दिले मजबूरियों का फिर भी गाया ना गया

Geet gaaye yun hazaaron vakt ki mazboorion ke
nagma dil-e-mazboorion ka phir bhi gaya na gaya

(Sang thousands of songs of helplessness of time
still I could not sing the song of helplessness of heart)

शायरी कविता गीत पोएट्री Shairi kavita geet poetry

शायरी कविता गीत पोएट्री(poetry)
ग़ज़ल, लिरिक(lyric) या नगमा कह दो
मन के अंतर को जो छू ले
नाम चाहे जो कुछ भी दे दो

जीवन की सच्चाई हो जिस में
शब्दों में से छलके प्रीत
चाहे उसे फिर शायरी समझो
या फिर समझो उसको गीत

शब्दों के इक जंगल में से
कुछ शब्दों को ढूँढ के लाओ
थोड़े आंसू थोडी खुशियाँ
गीतों का इक हार बनाओ

प्यासों की जो प्यास बुझाऐ
ऐसी हो शब्दों की सरिता
भावुक मन की बात जो कह दे
ग़ज़ल कहो या फिर उसको कविता


Shairi,kavita,geet, poetry
Gazal, lyric ya nagma kah do
man ke antar ko jo chhoo le
naam chahe jo kuch bhi de do

Jeevan ki sachhai ho jis mein
shabdon mein se chhalke preet
chahe use phir shairi samjho
ya phir samjho usko geet

Shabdon ke ik jangal mein se
kuchh shabdon ko dhoond ke lao
thode aansoo thodi khushian
geeton ka ik haar banao

Payason ki jo pyas bujhaye
aisi ho shabdon ki sarita
bhavuk man ki baat jo kah de
gazal kaho ya phir usko kavita

(Shayari,kavita,geet poetry,
or call it gazhal,lyric or nagma
only it should touch your heart
you can call it by any name

It should convey the truth of life
words should convey the eternal love
you can think of it as shayari
or you can think of it as a geet

from this jungle of words
search and bring some words
some tears and some happiness
make a necklace of songs

it should quench the thirst of thirsty,
such should be your river of words
it should convey sentiments of heart
call it by any name, gazhal or kavita)




कांटों की अपनी दोस्ती kaanto ki apni dosti

कांटों की अपनी दोस्ती अच्छी थी मेरे यार
फूलों की खुशबूओं ने कई पागल कर दिए
कांटे हमारे जिस्म को छलनी न कर सके
फूलों की पत्तियों ने कई जख्म कर दिए

kaanto ki apni dosti achchi thi mere yaar
phoolon ki khushbuon ne kai pagal kar diye
kaante hamare jism ko chhalni na kar sake
phoolon ki pattiyon ne kai jakhm kar diye

(It was good to have friendship with thorns
flowers have made so many people mad
thorns could do no harm to me
but delicate petals of flowers
have injured me several times)

वो थी सोलह साल की Vo thi solah saal ki

वो थी सोलह साल की मैं था ऊपर बीस
हाथ पकड़ बैठे रहे हो गए पूरे तीस

हो गए पूरे तीस इक दिन वो बोली
हाथ से आगे भी बढो ले आओ डोली

दो सौ ले कर पंडित ने शुभ घड़ी बतलाई
कल तक थी जो प्रेमिका बन पत्नी घर आई

तिनका तिनका जोड़ कर इक नीड़ बनाया
रास रंग और प्रेम से ये नीड़ सजाया

दिन में फाइलें चाटते रातें थी रंगीन
पत्नी बड़ी उदार थी बच्चे हो गए तीन

रास रंग सब छोड़ कर घर को संभाला
प्रेम व्रेम सब भूल के बच्चों को पाला

पापड़ सारे बेल के जो पाया सो लाये
घरवाली भी नेक थी घर को दिया सजाय

शादी व्याह सब कर दियो सब को दिया पढाये
बच्चे अपनी राह गए अपने नीड़ बनाए

अपनी दुनिया में रमे घर कों दिया भुलाये
गीता का उपदेश भी तभी समझ में आए

कर्म किए जा फ़र्ज़ है फल की आशा छोड़
सब यहीं रह जाए गा मोह माया को तोड़

जो थी सोलह साल की वही रही है साथ
बैठें है फिर उसी जगह पकड़े उसका हाथ



Vo thi solah saal ki mein tha upar bees
Haath pakad baithe rahe ho gaye poore tees

Ho gaye poore tees ik din vo boli
hath se aage bhi badho le aayo doli

Do sau le kar pandit ne shubh ghadi batlai
kal tak thi jo premika ban patni ghar aayee

Tinka tinka jod kar ik need banaya
ras rang aur prem se yeh need sajaya

Din mein faailen chaatte raten thi rangeen
Patni badi udar thi bachey ho gaye teen

Ras rang sab chhod ke ghar ko sambhala
prem vrem sab bhool ke bachon ko paala

Papad sare bel ke jo paya so laye
gharwali bhi nek thi ghar ko diya sajaye

Shadi byah sab kar diye sab ko diya padhay
bachey apni raah gaye apne need banaye

Apni duniya mein rame ghar ko diya bhulaye
geeta ka updesh bhi tabhi samajh mein aaye

Karm kiye ja farj hai fal ki aasha chhod
sab yahin reh jaye ga moh maaya ko tod

Jo thi solah saal ki vahi rahi hai saath
baithen hain phir usi jagah pakde us ka hath



(She was only sixteen when I was twenty
sitting hand in hand till I was thirty

when I was thirty she told one day
proceed beyond hand get married and stay

pandit told shubh ghadi after taking two hundred
till now who was my beloved came home as my wife

with all efforts we made a home and
decorated it with love and affection

days were devoted to files but nights were superb
she was also very liberal and gave me three children

we forgot every thing about love and love life
became busy with bringing up the children

with all efforts whatever I got brought home
she was also very nice made the home perfect

Children's education , their marriage became the aim of life
one day they went their own way and made their own nests

they had their own world and forgot about the home
then only you follow what is advised in Geeta

Do your work sincerely because it is your duty
you have no right to the fruits of your actions

again who was sixteen has remained with me
sitting again at the same place with hand in hand)


नगमा - ए -दिल Nagma-e- dil

गीत गाये यूँ हजारों वक़्त की मजबूरियों के
नगमा दिले मजबूरियों का फिर भी गाया गया

Geet gaye yun hazaaron vakt ki mazboorion ke
nagma dile mazboorion ka phir bhi gaya na gaya

(I sang many songs of helplessness of times
still I could not sing the song of helpness of my heart)

किस्मत का ये मज़ाक Kismat ka ye mazaak

किस्मत का ये मज़ाक भी कितना अजीब था
नसीब ये कि तेरा हर रफ़ीक मेरा रकीब था
यूँ तो ता ज़िन्दगी तूफानों से लड़ते रहे
मगर कश्ती तब डूबी जब किनारा करीब था

Kismat ka ye mazaak bhi kitna ajeeb tha
naseeb ye ki tera har rafeek mera rakeeb tha
yun to ta zindagi toofaanon se ladte rahe
magar kashti tab doobi jab kinara kareeb tha

(Fate played a wonderful game with me
it was luck that whosoever was your friend
became my enemy
like this I went on playing for full life with storms
however my boat sank when I was about to reach the shore)


जवान रात है Jawan raat hai

जवान रात है सरकता हुया आँचल
कोई परेशान ना हो तो फिर क्या हो
बेनकाब हुया जाए जो हुस्न ख़ुद ख़ुद
कोई बेईमान ना हो तो फिर क्या हो

ईमान की बात फिर कभी कर लेना
आज मुझे बे -ईमान ही हो जाने दो
तेरी जुल्फों का साया फिर मिले ना मिले
आज क़ी रात तो इस साए में खो जाने दो

कल किस ने देखा है तुम आज की बात करो
अभी तो रात का एक पहर बाकी है
जब इतना पी ही चुके दो घूँट और सही
अभी तो रात बाकी है अभी तो ज़हर बाकी है

ता ज़िन्दगी तेरा इंतज़ार किया है मैंने
ज़रा बैठो कुछ प्यार की बात तो कर लें
सुबह होते ही हमें फिर अलग हो जानाहै
आज तो इस रात को अपनी रात कर लें


Jawan raat hai sarkata hua anchal
koi preshan na ho to phir kya ho
be- nakaab hua jaye jo husn khud-b-khud
koi be-imaan na ho to phir kya ho

Imaan ki baat phir kabhi kar lena
aaj mujhe be-imaan ho hi jane do
teri zulfon ka saaya phir mile na mile
aaj ki raat to is saaye mein kho jaane do

kal kis ne dekha hai tum aaj ki baat karo
abhi to raat ka ek pahar baaki hai
jab itna pi hi chuke do ghunt aur sahi
abhi to raat baaki hai abhi to zahar baaki hai

Taa zindagi tera intezaar kiya hai meine
zara baitho kuchh pyaar ki baat to kar len
subah hote hi hamen phir alag ho jaana hai
aaj to is raat ko apni raat kar len


आए थे यहाँ aaye the yahan

आए थे यहाँ दो दिन के लिए कुछ कह के चले कुछ सुन के चले
बातें तो यहां रह जाएं गी बातों की यादें ले के चले

ये रंग बिरंगी सी घड़ियां कब बीत गयी कुछ पता नहीं
तेरा शहर बड़ा ही प्यारा था मन छोड़ चले तन ले के चले

बैठें गे कभी जब फुर्सत में तब याद यहां की आए गी
इतनी जल्दी कैसे कह दें क्या छोड़ चले क्या ले के चले

आए हैं तो जाना भी होगा कब कौन कहां रुक पाता है
कुछ अपनी यादें छोड़ चले कुछ तेरी यादें ले के चले

मुमकिन तो नहीं कि फिर आयें आए भी तो कब तक आयें गे
महफिल ये तेरी आबाद रहे इतनी सी दुआ हम दे के चले


aaye the yahan do din ke liye kuchh kah ke chale kuchh sun ke chale
baaten to yahan reh jaayen gi baaton ki yaaden le ke chale

ye rang birangi si ghadiyan kab beet gayi kuchh pata nahin
tera shehar bada hi pyara tha man chhod chale tan le ke chale

baithen ge kabhi jab fursat mein tab yaad yahan ki aaye gi
itni jaldi kaise kah dein kya chod chale kya le ke chale

aayen hain to jaana bhi hoga kab kaun kahan ruk paata hai
kuchh apni yaaden chod chale kuchh teri yaden le ke chale

mumkin to nahin ki phir aayen aaye bhi to kab tak aayen ge
mehfil ye teri aabaad rahe itni si dua hum de ke chale



( I had Come here only for few days, I heard so much told so much
all talks will remain here but memories of all talks will go with me

how such a good time passed so fast we never came to know
your city was really beautiful, I'm going in person leaving the heart behind

when I will sit sometime in pensive mood I will think of this place and you
how can I tell so early what I am leaving behind and what I am taking

Anyone who comes has to go, who can stay anywhere for ever
however I'm leaving my memories here, taking your memories with me

I don't think I will come again, if at all when will it be
your mehfil should remain radiant as ever, I 'm leaving with this humble wish)


न पूछो की हम Na poochho ki ham


न पूछो की हम उन से क्या मांगते हैं
नहीं मांगते वो जो सब मांगते हैं

हम ने तो माँगा था इक कतरा दिल का
सभी को लगा की खुदा मांगते हैं

जो माँगा था हमने कहाँ कब मिला है
जो मिलता है वो हम कहाँ मांगते हैं

उन्हें मिल कर अक्सर ऐसा लगा है
की उन को ख़बर है हम क्या मांगते हैं

चले साथ जब तक कभी कुछ न माँगा
जुदा हो उसी का पता मांगते हैं

दीवारों में अपने को ख़ुद बंद कर के
ये खुलेपन की हवा मांगते हैं

जहाँ से कभी कुछ नहीं मिलने वाला
ये खैराते मुहब्बत वहां मांगते हैं

मांगें जो मुझ से सभी कुछ में दे दूँ
मगर वो मुझ से कहाँ मांगते हैं

जलाने मेरा घर जो लाये मशालें
मेरे दोस्त मेरी रजा मांगते हैं

हाथों में हो जाम पर लब तक न पहुंचे
मेरे लिए वो ऐसी सजा मांगते हैं

हवाओं में ये कैसा डर सा घुला है
इस शहर के लिए हम दुआ मांगते हैं

फिर कभी मिलें न मिलें क्या पता
अभी तो सिर्फ़ अलविदा मांगते हें


Na poochho ki ham un se kya maangte hain
nahin maangte vo jo sab maangte hain

ham ne to maanga tha ik katra dil ka
sabhi ko laga ki khuda maangte hain

Jo maanga tha humne kahan kab mila hai
jo milta hai vo hum kahan maangte hain

unhen mil kar aksar aisa laga hai
ki un ko khabar hai hum kya maangte hain

Chale saath jab tak kabhi kuchh na maanga
juda ho usi ka pata maaangte hain

deewaron mein apne ko khud band kar ke
ye khulaepan ki hawa maangte hain

Jahan se kabhi kuchh nahin milne wala
ye khairate muhabbat vahan maangte hain

maangen jo mujh se sabhi kuchh mein de doon
magar vo mujh se kahan maangte hain

Jalaane mera ghar jo laaye mashalen
mere dost meri raza maangte hain

hathon mein ho jaam par lab tak na pahunche
meri liye vo aisi saja maangte hain

Hawaaon mein ye kaisa dar sa ghula hai
is shahar ke liye ham dua maangte hain

phir kabhi milen na milen kya pata
abhi to sirf alvida maangte hain


(Don't ask me what I am asking from you
I am not asking what everyone is asking for

I asked for only a small piece of your heart
everyone thought I am asking for some stars

whatever I asked for I could never get
whatever I got I had never asked for

after meeting you often I thought
that you know what I am asking for

when we were together I never asked for any thing
after we parted I am searching for your address

after enclosing yourself within four walls
you are asking for breeze of independence

from where you know you will never get any thing
you are asking for love from the same place

if you ask me I will give everything
but where are you asking from me any thing

friends who brought lighted torches for burning my house
are asking me for my permission

the cup in my hand should never touch my lips
they are wishing such things for me

Don't know what is this smoke in the air
now I am asking only for welfare of this town

we may meet or may not meet again
for present I am asking only for goodbye)







टुकडियां (4) Tukdian (4)


मैं ये किस शहर में आ गया हूँ
उजड़ी हुई बस्ती है टूटे हुए लोग
हर साँस में जीवन की
बेचैन सी धड़कन है
Main ye kis shehar mein aa gaya hoon
ujdi hui basti hai tute hue log
har saans mein jeevan ki
bechain si dhadkan hai


उमर जो ढलती रही
कोई सपना ना रहा
तुम भी मेरे ना हुए
मैं भी अपना ना रहा
Umar jo dhalti rahi
koi sapna na raha
tum bhi mere na hue
main bhi apna na raha


तेरी दुनिया बनी मेरी दुनिया
तेरे सपने बने संसार मेरा
तेरे होंठ बने मेरी धड़कन
तेरी आँख बनी है प्यार मेरा
Teri duniya bani meri duniya
tere sapne bane sansar mera
tere honth bane meri dhadkan
teri aankh bani hai pyar mera


वो राहें चले हम तुम जिन पर
वो मीलें पीछे छूट गईं
वो नाते रिश्ते घर गलियां
वो संग सहेली छूट गईं
Vo rahen chale hum tum jin par
vo meelon peechhe chhoot gayin
vo naate rishte ghar galian
sab sang saheli chhoot gayin


रात का खामोश आलम कसमसाता रह गया
पास आ कर भी तुम्हारे पास आया ना गया
इक तरफ़ था तेरा घर इक तरफ़ था मैकदा
इधर भी जाया ना गया उधर भी जाया ना गया
Raat ka khamosh aalam kasmasata reh gaya
paas aa kar bhi tumhaare paas aya na gaya
ik taraf tha tera ghar ik taraf tha maikda
idhar bhi jaaya na gaya udhar bhi jaya na gaya


ज़िन्दगी दे साज़ उत्ते हौकयां ने गीत गाया
सुन के मेरे वैन तिख्खे हंजुयां नूं रोन आया
Jindagi de saaj utte haukian ne geet gaaya
sun ke mere vain tikhe hanjuan nu ron aaya (Punjabi)


भुलियाँ नी हाले वी ओह यादां तेरीयां
की फेरा पा अडिया
की तैनू मेरे गीत बुलांदे ने
की मुड़ मुड़ तरले पान्दे ने
की पा वतना वल मोड़
फेरा पा अडिया (पंजाबी)
Bhulian ni hale vi uh raahan terian
ki phera paa adia
ki tainu mere geet bulande ne
ki mud mud tarle paunde ne
ki pa vatnan nu mod
phera pa adiya (Punjabi)


गमे ज़िन्दगी में जो भी आया मेरा साथ दे ना पाया
मुझ से रहा पराया मेरा ही अपना साया
Game zindgi mein jo bhi aya mera saath de na paya
mujh se raha paraya mera hi apna saaya


कभी मिल के हम थे बिछडे चलो याद कर के रोयें
किस दौर में से गुज़रे चलो याद कर के रोयें
Kabhi mil ke hum the bichhde chalo yaad kar ke royen
kis daur mein se guzre chalo yaad kar ke rooyen


यह सोच के उठ्ठे थे महफिल से
की फिर नहीं आयें गे हम
तेरा दरवाजा खुला देखा
तो दिल से परेशां हो गए
Ye soch ke uthe the mehfil se
ki phir nahin aayen ge hum
tera darwaja khula dekha
to dil se preshaan ho gaye


कौन कहता है तुम परायी हो गयी हो
तेरी तस्वीर हमेशा मेरे दिल में रहती है
तुम अगर चुप हो शिकवा नहीं है मुझ को
तेरी तस्वीर तो मुझसे बहुत कुछ कहती है
Kaun kahta hai tum parai ho gayi ho
teri tasveer hamesha mere dil mein rahti hai
tum agar chup ho shikwa nahin hai mujh ko
teri tasveer to mujhse bahut kuchh kahti hai


रात ढलती है तो ढलती ही चली जाती है
टीस उठती है तो बढती ही चली जाती है
जब कभी मेरे ज़हन में तेरा ख़याल आता है
किसी गुलशन के एक सूखे हुए पेड़ क़ी याद आती है
Raat dhalti hai to dhalti hi chali jaati hai
tees uthti hai to badhti hi chali jaati hai
jab kabhi mere zahn mein tera khyal aata hai
kisi gulshan ke ek sukhe hue ped ki yad aati hai

मैं परदेसी हां
परदेस मेरे ने देस
क़ि मैं परदेसी हां
ना राह मेरी तूं रोक
चलदे राहियाँ नूं टोक
क़ि मैनूं जावन दे
एह गीत मेरे अनजोड़
क़ि शामां वेले तूं
नेहरां कंडे तूं
दे दयीं लहरा विच रोड
क़ि मेनू जावन दे (पंजाबी)
Main pardesi haan
pardes mere ne des
ki main pardesi haan
na raah meri tun rok
chalde raahian nu na tok
eh geet mere unjod
ki shamaan vele tun
nehran kande tun
dain lehran vich rod
ki mainu jaawan de (Punjabi)







टुकडियां (3) Tukdian (3)



गमे ज़िन्दगी मैं जब हम कभी यूँ ही मुस्कुराए
दिल दर्द में था डूबा गम अश्क बन के आए
Game zindagi mein jab hum kabhi yun hi muskuraye
dil dard mein tha dooba gam ashq ban ke aaye


ये कैसी दास्ताँ थी जो बनी मेरा फ़साना
जिसे किस ने चाहा सुनना जिसे किस ने चाहा गाना
Ye kaisi dastan thi jo bani mera fasaana
jise kisne chaha sunna jise kis ne chaha gaana


जली कुमकुमों की लम्बी कतारें
रौशन मीनारें ये रौशन ज़मीं
रौशन है दुनिया की हर गली
मगर दिल की दुनिया अंधेरी रही
Jali kumkumon ki lambi kataren
raushan minaren ye raushan jamin
raushan hai duniya ki har ik gali
magar dil ki duniya andheri rahi


साज़ बजता रहा रंग जमता रहा
दर्द दिल का मगर कम हो ना सका
Saaz bajta raha rang jamta raha
dard dil ka magar kam ho na saka


आज गंगा किनारे ओ री सांवरी
तूने लूटा है दिल का गुमान रे
Aaj ganga kinare o ri saanwari
tune loota hai dil ka gumaan re


इस मोड़ पे आना तुम और हम भी आयें गे
वादा ये मोहब्बत का हम रोज़ निभाएं गे
Is mod pe aana tum hum aur hum bhi aayen ge
vada ye mohabbat ka hum roj nibhayen ge


उजड़ा चमन गरीब का तू देखता रहा
बिखरे चमन के फूल सब तूने ये क्या किया
Ujda chaman garib ka tu dekhta raha
bikhre chaman ke phool sab tune yeh kya kiya


बिखरे सब सामान खुशी के रह गई चाह अधूरी
कोई किसी से मिल नहीं पाए ये कैसी मजबूरी
Bikhre sab samaan khushi ke reh gai chah adhoori
koi kisi se mil nahin paye ye kaisi mazboori


तुम चांद से ज्यादा सुंदर हो और फूल से ज्यादा नाज़ुक सी
तेर बोल में ऐसी ठंडक है क़ि मिल जाती है राहत सी
Tum chaand se jyaada sundar ho aur phool se jyada nazuk si
tere bol mein aisi thandak hai ki mil jaati hai rahat si


मुझे तुम से मुहब्बत है ये कितनी बार कहना है
इक बार नहीं सौ बार कहा अब आख़िर और क्या कहना है
Mujhe tum se muhabbat hai ye kitni baar kehna hai
ik baar nahin sau baar kaha ab aakhir aur kya kehna hai


खट्टे हैं अंगूर Khatte hain angoor

खट्टे हैं अंगूर सुना ये सब ने भाई
लगती थी मीठी हमें पर अंगूरी बाई

अंगूरी के बाप ने किया एक ही सवाल
कितना पैसा बैंक में कितना घर में माल

मैंने कहा ससुरजी मेहनत की हैं खाते
ऊपर नीचे कुछ नहीं सिर्फ़ तनख्वाह पाते

बोले बेटा कुछ करो कुछ तो कर के लाओ
जब हो पैसा बैंक में तब शकल दिखलाओ

मेहनत की फिर रात दिन ख़ुद को बहुत खपाया
इक इक पैसा जोड़ कर कुछ बैंक बैलेंस बनाया

फिर हम ने जा कर माँगा अंगूरी का हाथ
वो तो कब की चली गई किसी और के साथ

पीठ टेढ़ी हो गयी बन गए हम लंगूर
तब फिर आया समझ में खट्टे हैं अंगूर


Khatte hain angoor suna ye sab ne bhai
Lagti thi meethi hamen par Angoori bai

Angoori ke baap ne kiya ek hi sawal
Kitna paisa bank mein kitna ghar mein maal

Maine kaha sasurji mehnat ki hain khate
Upar neeche kuchh nahin sirf tankhwah pate

Bole beta kuchh karo kuchh to kar ke lao
Jab ho paisa bank mein tab shakal dikhlao

Mehnat ki phir raat din khud ko bahut khapaya
Ik ik paisa jod kar kuchh bank balance banaya

Phir hamne ja kar maanga Angoori ka hath
Vo to kab ki chali gai kisi aur ke sath

Peeth tedi ho gai ban gaye hum langoor
Tab phir aaya samajh mein khatte hain angoor

ता जिन्दगी

ता जिन्दगी हम तेरा इंतज़ार करते रहे
तेरे आने को मैं अपना मुक्कद्दर समझ बैठा था
तेरा पैरहन, तेरी मुस्कान, तेरे आगोश को
अपनी तन्हा रातों की सहर समझ बैठा था

जब तक इस बहते हुए पानी में रवानी है
इस नदी के दो किनारे मिल नहीं सकते
मिलें गे तब ,जब सूख जाए गी ये रेगज़ारों मैं
उस मिलने को तो मिलना कह नहीं सकते

यूँ तो अब भी हर रात तेरा ख़याल आता है
मुझे पता है मेरी जिंदगी से दूर जा चुकी हो तुम
फिर भी जाने क्यों हर आहट पे वहम सा होता है
मेरे दरवाजे के बाहर किसी असमंजस में रुकी हो तुम

लगता है अभी दरवाजे पे थपथपाहट होगी
तेरी पेशोपेश ,तेरा असमंजस टूट जाए गा
अभी कहीं से आ के कहो गी तुम मुझ से
अपनी मंजिल अपना मुकद्दर एक हो जाए गा

मैं तेरी आवाज़ को ढूँढता हूँ इन वीरानों में
यहां हवा की सरसराहट के सिवा कुछ भी नहीं
में जिसे तेरा साया तेरी आवाज़ समझ बैठा था
दर हकीकत मेरे इंतज़ार के सिवा कुछ भी नहीं